राजकाज

पहली बार “देवभूमि डायलाॅग” मे उत्तराखंड के रियल हीरो करेंगे संबोधित!

देवभूमि डायलॉग
जनता से सीधा संवाद गुड गवर्नेंस का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने समाज के विभिन्न वर्गों के साथ जनसंवाद का कार्यक्रम शुरू किया है।

इसकी पहली कड़ी में 20 अप्रैल को मुख्यमंत्री आवास में देवभूमि डायलॉग कार्यक्रम होगा। जिसमें मुख्यमंत्री  प्रदेशभर से आए करीब 500 युवाओं से सीधा संवाद करेंगे।
कार्यक्रम में कई जानेमाने वक्ताओं को भी आमंत्रित किया गया है जो विभिन्न विषयों पर युवाओं से रू ब रू होंगे।

पद्म श्री अनिल जोशी हिमालय: संभावनाओं का संसार विषय़ पर अपने विचार रखेंगे।

हार्क संस्था के डॉ. महेंद्र स्थानीय संसाधनों द्वारा रोजगार की संभावनाएं विषय पर युवाओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करेंगे।

उत्तराखंड के डीजीपी श्री अनिल रतूड़ी नए उत्तराखंड के निर्माण में पुलिस की भूमिका विषय पर अपने विचार युवाओं से साझा करेंगे।

वित्त सचिव श्री अमित नेगी, उत्तराखंड: कल आज और कल विषय पर उत्तराखंड की संभावनाओं और अवसरों की रूपरेखा सामने रखेंगे।

पलायन आयोग के उपाध्यक्ष श्री एस एस नेगी रिवर्स माइग्रेशन: आ अब लौट चलें विषय पर अपने विचार रखकर उत्तराखंड से पलायन की समस्या औऱ रिवर्स माइग्रेशन की मुहिम से हो रहे बदलाव को समझाएंगे।

आईएएस पंकज पांडे स्किल उत्तराखंड विषय पर उत्तराखंड में स्किल डेवलेपमेंट और रोजगार की संभावनाओं का खाका सामने रखेंगे।

इसी तरह आईटीडीए निदेशक अमित सिन्हा साकार होता डिजिटल उत्तराखंड का सपना विषय पर उत्तराखंड में डिजीटल क्रांति की तस्वीर सामने रखेंगे।
इस कार्यक्रम में अलग अलग क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य कर रहे उत्तराखंड के 20 युवाओं को मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित किया जाएगा, जिन्होंने अपनी मेहनत और लगन से युवाओं के सामने उत्तम उदाहरण पेश किया है।


कार्यक्रम के सबसे महत्वपूर्ण भाग में मुख्यमंत्री सीधे युवाओं से संवाद करेंगे। मुख्यमंत्री युवाओं को ग्रोथ सेंटर से जोड़ने, स्वरोजगार द्वारा आत्मनिर्भर बनाने, रोजगार के नए मौके तलाशने और रिवर्स पलायन रोकने में सहायक बनने जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर युवाओं से चर्चा करेंगे। इसके अलावा उत्तराखंड के विकास के लिए युवाओं के सुझाव व राय सुनेंगे और राज्य के विभिन्न विषयों पर उनसे चर्चा करेंगे।
युवाओं द्वारा दिए सुझावों को संबंधित क्षेत्र के अधिकारी नोट करेंगे साथ ही तकनीकी रूप से सवालों के जवाब भी दे सकते हैं।
प्रत्येक कार्यक्रम के सुझावों और आउटपुट को कैसे इंप्लीमेंट करें इस पर संबंधित अधिकारी मा. मुख्यमंत्री  से विचार विमर्श करेंगे। इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित होंगे।
इस पूरे कार्यक्रम को देहरादून के साथ-साथ सभी ब्लॉक और तहसील मुख्यालयों में भी लाइव देखा जा सकेगा। कार्यक्रम को 119 स्वान केंद्रों और 3 दूरस्थ गावों (चमोली जनपद के घेस, हिमनी व पिथौरागढ़ के पीपलकोट गांव) में भी वेबकास्टिंग के जरिए प्रसारित किया जाएगा।
देवभूमि डायलॉग का यह सिलसिला प्रत्येक माह आयोजित किया जाएगा। अगले कुछ महीनों में महिलाओं, किसानों, उद्यमियों आदि से बारी-बारी से संवाद किया जाएगा।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: