सियासत

त्रिवेंद्र के उपेक्षापूर्ण व्यवहार से हैरान कुर्मांचल समाज

 कूर्माचल परिषद का खूबसूरत गुलदस्ता संरक्षक मुख्यमंत्री का साथ न मिलने से मुरझा गया 
कूर्माचल सांस्कृतिक एवं कल्याण परिषद देहरादून द्वारा 11 फरवरी 2018 रविवार को 11 बजे से बैठक हुई।  अध्यक्ष श्री कमल रजवार की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में कार्यकारिणी द्वारा अनेक महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर मंथन हुआ।
 महासचिव चन्द्रशेखर जोशी द्वारा अवगत कराया गया कि मीटिंग में सदस्यो ने कूर्माचल परिषद के पदेन संरक्षक मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड के उपेक्षापूर्ण व्यवहार पर हैरानी भी जतायी। सदस्यों ने कहा कि कूर्माचल परिषद का खूबसूरत गुलदस्ता संरक्षक मुख्यमंत्री का साथ न मिलने से मुरझा गया है।
3 सितम्बर 2017 को कूर्माचल परिषद द्वारा कूर्माचल भवन, जीएमएस रोड, देदून में आयोजित सुन्दरकाण्ड में बुलावे के उपरांत भी संरक्षक मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड नही आये, इसके उपरात कूर्माचल परिषद द्वारा आयोजित दीपावली मिलन समारोह 2017 में भी संरक्षक मुख्यमंत्री निमंत्रण देने के उपरांत भी नही आये, इसी तरह अब 25 फरवरी 2018 को आयोजित होली मिलन समारोह 2018 को परिषद के संरक्षक के रूप में मुख्यमंत्री जी का कार्यक्रम फाइनल नही हो पाया, इससे कूर्माचल परिषद में एक अच्छा संदेश नही जा रहा है, ज्ञात हो कि इससे पूर्व 17 मार्च 2017 को श्री त्रिवेन्द्र रावत जी के मुख्यमंत्री बनने के उपरांत कूर्माचल परिषद द्वारा लगातार मुलाकात हेतु समय मांगा गया, परन्तु नही दिया गया। ऐसा व्यवहार क्यों किया जा रहा है, समझ से परे है।
 महासचिव चन्द्रशेखर जोशी ने कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय में जिम्मेदार लोगों को कई बार लिखित में देने के बाद भी परिषद की मुलाकात संभव नही हो पायी, इस पर ट्वीट करके  त्रिवेन्द्र सिंह रावत मुख्यमंत्री को संदेश दिया गया है कि आपके मुख्यमंत्री बन जाने के बाद कूर्माचल परिषद की आपसे मुलाकात भी असंभव हो गयी है, ऐसे में आपको ट्वीट कर संदेश दे रहे हैं कि कुर्मांचल परिषद देहरादुन के होली कार्यक्रम में मुख्यमंत्री, उत्तराखंड, पदेन संरक्षक, के पधारने की परम्परा रही है, मुख्यमंत्री कुर्मांचल भवन में पधार कर होलियारों के साथ होली का फाग खेलते हैं और पूरे प्रदेश को यही से होली का संदेश देते है, परंतु पहली बार यह परम्परा खत्म हो जाएगी, 25 फरवरी 2018 रविवार को कुर्मांचल परिषद द्वारा आयोजित होली समारोह में आने को टाल दिया है।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र रावत जी के कुर्मांचल भवन में होली समारोह में आने का प्रोग्राम भरसक प्रयास के बाद भी मुख्यमंत्री कार्यालय फाइनल नही कर पाया। इससे पूर्व विगत सुन्दर काण्ड तथा दीपावली समारोह में भी मुख्यमंत्री जी का कार्यक्रम कुर्मांचल परिषद को नही मिल पाया था, इससे पूर्व कुर्मांचल परिषद के भरसक प्रयास के बाद भी कभी मुलाकात हेतु समय भी नही दिया गया, इससे कुर्मांचल समाज मे निराशा व्याप्त हुई है, और पहली बार एक परम्परा खत्म होगी, देहरादून में कुर्मांचल परिषद की 10 शाखाएं तथा एक केंद्रीय परिषद है। समस्त शाखाएं अलग-अलग स्थानों में होली समारोह मनाती है, इसके उपरांत केंद्रीय परिषद के भव्य होली कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पधारते है, कुर्मांचल परिषद द्वारा मनाये जाने वाले होली कार्यक्रम विख्यात है, परंतु इस बार मुख्यमंत्री जी द्वारा कूर्माचल परिषद के होली कार्यक्रम में न आने से एक अच्छा संदेश नही जाएगा।
अध्यक्ष कमल रजवार ने अवगत कराया कि 18 फरवरी को कांवली तथा नत्थनपुर, 24 फरवरी को हाथीबडकला तथा माजरा शाखा तथा 27 फरवरी को गढी कैन्ट शाखा का होली कार्यक्रम आयोजित है, शाखाओं के सांस्कृतिक कार्यक्रम केन्द्रीय परिषद के होली समारोह में भी लिये जायेगें। केन्द्रीय परिषद के होली समारोह में होल्यारों की टीम खड़ी होली गायेगी, इसके अलावा बैठकी होली आदि के अलावा अनेक रंगबिरंगे कार्यक्रम होंगे। संचालन महासचिव चन्द्रशेखर जोशी द्वारा किया गया।
 वही मीटिंग में जलपान समिति में श्री सीपी जोशी- अधिवक्ता, श्री उत्तम सिंह अधिकारी, श्री आरएस बिरौरिया को रखा गया जिनके द्वारा कार्यक्रम उपरांत अतिथियों, उपस्थित जनो को होली के विशेष रूप से बनायी जा रही गुजिया खिलायी जायेगी। श्री राजेश पाण्डे उपाध्यक्ष ने किसी भी तरह की जिम्मेदारी सौंपी जाने पर पूर्ण करने का आश्वासन दिया।
 वही कूर्माचल भवन में सहयोग कराने वाले दानदाताओं को होली में आमंत्रित किया गया है, कूर्माचल भवन को बनाने वाली तकनीकी टीम में इंजीनियर सुरेश पंत, इंजीनियर श्री देवेन्द्र शाह, इंजीनियर श्री प्रकाश लोशाली, इंजीनियर श्री रमेश जोशी को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया है। इंजीनियर सुरेश पंत द्वारा बैठकी होली के बारे में विस्तार से प्रकाश डाला, और परिषद हित में कोई भी कार्य सौंपे जाने पर स्वीकृति दी।
 विशेष रूप से सांस्कृतिक कार्यक्रमो की रिहर्सल उनके देखने आदि की जिम्मेदारी केन्द्रीय सांस्कृतिक सचिव डा०  हरीश चन्द्र शाह, श्रीमती उमा जोशी के साथ तदर्थ रूप से बनायी कमेटी जिसमें श्री कमल रजवार, श्री सुष्मिता मनराल, बबीता लोहनी, वन्दना ठाकुर, जीवन सिंह बिष्ट, दीपा शर्मा, ललित मोहन जोशी आदि को रखा गया है जो कूर्माचल परिषद की समस्त १० शाखाओ से कार्यक्रमो को केन्द्र के लिए चुनेगें। इसके अलावा अन्य कोई भी इच्छुक प्रतिभागी 23 फरवरी तक अपने नाम परिषद के पदाधिकारियों को दे सकता है, अंतिम क्षण में सांस्कृतिक कार्यक्रम के लिए नाम नही लिये जायेगें।
 आज की मीटिंग में डा. हरीश शाह, आरएस परिहार, सीपी जोशी, सोबन सिंह ठठोला, केसी जोशी, राजेश पाण्डे, केएन पंत, संतोष कुमार जोशी, भगवान सिंह मनोला, वीरेन्द्र काण्डपाल, इ.एससी पंत, उमा जोशी, दीपा शर्मा, ललित मोहन जोशी, उत्तम सिंह अधिकारी, आरएस बिरौरिया, वन्दना बिष्ट, मंजू देउपा, बंशीधर जोशी, कमल रजवार, चन्द्रशेखर जोशी समेत अनेक सदस्य उपस्थित थे।
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: