aisa-laga-chakka
नुक्ताचीनी

ऐसा लगा ‘छक्का’!

दारू-मुर्गा व जेब खर्चा तो विधायक से लेकर प्रधानी तक के चुनाव में भी खूब बांटा जाता है, लेकिन अब जमाना काफी आगे बढ़़ चुका है तो नेताजी ने सोचा कि अबकी बार कुछ नया करके ही बेड़ा पार लगाया जा सकता है। वैसे भी चुनावी महाकुंभ है, क्षेत्र में दो-चार छीटें मार भी दें तो इससे भला उनके खजाने में क्या फर्क पड़ेगा और अगर यह वैतरिणी पार हो गई तो कई पीढिय़ों के लिए खजाना भरा जा सकता है, यही सोचकर उत्तराखंड में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के अंतिम दिनों में प्रत्याशियों ने चुनाव आयोग की तिरछी नजर के बावजूद दिल खोलकर खर्च किया।
इस बीच देखने में आया कि बिना काम-धाम किए ही चुनाव मैदान में उतरे रायपुर से एक पार्टी के उम्मीदवार ने क्षेत्र में पकौड़ों में संभावनाएं देखी और सोचा कि मतदाताओं को अपना नमक खिलाया जाए तो संभव है कि वे उनके साथ नमक हरामी नहीं करेंगे। इस तरह कार्यकर्ता जहां-जहां प्रचार करते, वहां-वहां एक पैकेट पकौड़े थमा देते। बात यहीं तक रुकती तो ठीक था, लेकिन बताते हैं कि इसी क्षेत्र में एक निर्दलीय प्रत्याशी ने लोगों को लुभाने का ऐसा नया तरीका निकाला, जो अभी तक कहीं नहीं देखा गया था। इस प्रत्याशी ने रायपुर विधानसभा क्षेत्र में महिलाओं की नस पकड़ी और उन्हें एक-एक साड़ी व नाक में पहनी जाने वाली सोने की फूली(नोज़ पिन) बांटकर अपने प्रत्याशी के पक्ष में वोट मांगे। अभी गली-मौहल्लों से कार्यकर्ता सामान बांटकर निकले ही थे कि तभी महिलाएं कहते हुए सुनाई दी कि इन्होंने तो लोगों को लूट-लूट कर अपना खजाना भरा है। इस समय गेंद जनता के पाले में हैं तो क्यों न मौके पर ‘छक्का’ मार दिया जाए।

विधायकी की दारू से पार्षदी का चुनाव!

nukta-cheeni (3)

नेताजी देहरादून की रायपुर सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ रहे थे। नेताजी को पार्टी ने टिकट तो दे दिया, लेकिन एक कालोनी का इलाका उनके लिए थोड़ा अंजान सा था। उन्होंने इलाके के एक छुटभैया नेता को उस एरिया में चुनाव प्रचार का जिम्मा सौंप दिया। अब छुटभैया रोज सुबह-शाम नेताजी के पास जाता और बोलता कि भैया जी बहुत बढिया चल रहा है, मेरे इलाके में तो आपकी लहर है। यह कहकर छुटभैया रोज नेताजी से कई शराब की पेटियां ले जाता रहा। नेताजी भी खुश थे कि यह शराब जरूर रंग लाएगी। मतदान से तीन-चार दिन पहले नेताजी इलाके में होने वाली सभा में भाषण देने के लिए आए तो खाली पड़ी कुर्सियों ने उनके माथे पर काफी बल डाल दिए। उन्होंने अपने जानने वालों से भीड़ न जुटने के बारे में पता किया तो मालूम हुआ कि इस एरिया में नेताजी के नाम की किसी ने दो बूंद भी नहीं चखी। फिर इतनी पेटी दारू उनके कार्यकर्ताओं ने बांटी कहां?
नेताजी को शायद पता नहीं कि छुटभैया यह शराब अगले साल होने वाले नगर निगम के चुनावों के लिए इकट्ठी कर रहा था। छुटभैया पार्षद के चुनाव की भी तैयारी कर रहा है तो सोचा होगा कि शराब पार्षदी के इलेक्शन में काम आएगी। हद तो तब हो गई, जब प्रचार के लिए भी ये छुटभैये सिर्फ उन्हीं घरों में गए, जिनमें नेताजी की पार्टी का झंडा टंगा था। जहां अन्य पार्टियों का झंडा-बैनर देखा तो वहां यह सोचकर नहीं गए कि ये तो दूसरी पार्टी के लोग लगते हैं। अब नेताजी चुनाव हो जाने

nukta-cheeni (3)

के बाद सर पकड़कर बैठे हुए हिसाब लगा रहे हैं कि इस इलाके से उन्हें कितने वोट मिले होंगे!

पनौती पत्रकार से दुखी पूर्व मुख्यमंत्री

डिजिटल इंडिया से राजनीति चमकाने के उद्देश्य में लगे एक पूर्व मुख्यमंत्री आजकल बहुत परेशान हैं। दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की तर्ज पर अपने को सोशल मीडिया के माध्यम से नई ऊंचाइयां देना चाहते थे, किंतु ग्रह चाल है कि सुधरने का नाम ही नहीं ले रही। पूर्व मुख्यमंत्री की नब्ज को भांपते हुए एक फेसबुकिया पत्रकार पूर्व मुख्यमंत्री के करीब पहुंचा तो पूर्व मुख्यमंत्री ने ढाई लाख रुपए के साथ-साथ अपना पासवर्ड भी फेसबुकिए को सौंप दिया। फिर क्या फेसबुकिए ने एक-एक कर सबको बताना शुरू कर दिया कि पूर्व मुख्यमंत्री सुबह होने के बाद पहली कॉल उसे करते हैं और रात को सोने से पहले भी उन्हीं को गुडनाइट कहते हैं। इस बीच फेसबुकिए ने पूर्व मुख्यमंत्री के कुनबे में जबर्दस्त सेंधमारी करते हुए सबको ठिकाने लगाकर खुद माल ऐंठने की नीति भी बना डाली, किंतु तीन बार क्रासचैक करने के बाद नेताजी को मालूम हुआ कि उन्होंने जिस पत्रकार को ब्रांड प्रोजेक्शन का काम दिया, वो वास्तव में पनौती साबित हुआ। आखिरकार पनौती पत्रकार की विदाई कर दी गई और सारा खर्चा-पर्चा बट्टेखाते में समझकर मौन साध लिया।

%d bloggers like this: