एक्सक्लूसिव खुलासा

सावधान: श्रमिक बीमा कार्ड के नाम पर हो रही थी वसूली। धरे गए

ग्रामीणों की जागरूकता से पकड़े गए ठग। श्रम विभाग का कार्ड बनाने के लिए कर रहे थे वसूली।उत्तरकाशी के दिब्या दसगी इलाके का मामला।

गिरीश गैरोला

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जनपद में हादसों के शिकार हो रहे श्रमिकों का भले ही सरकार कोई सुध नहीं ले रही हो लेकिन ठगों ने इन्हें भी अपनी ठगी का शिकार बनाने में कोई कोर कसर नही छोड़ी । उत्तरकाशी जनपद के चिन्यालीसौड़ तहसील में ऐसा ही मामला सामने आया है।

चिन्यालीसौड़ तहसील के अंतर्गत दिव्य दसगी क्षेत्र में ठगी का एक मामला सामने आया है, जिसमें 5 लोगों को राजस्व पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। तहसीलदार चिन्यालीसौड़ चक्रधर ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर मौके पर पंहुची टीम ने पाया कि  कुछ लोग  खुद को श्रम विभाग के कर्मचारी बताकर ग्रामीणों का श्रमिक कार्ड बनाने का बनाने के एवज में प्रति व्यक्ति  230  रु  ले रहे थे।इसके साथ ही ग्रामीणों से आधार कार्ड ,परिवार रजिस्टर,  राशन कार्डऔर जॉबकार्ड आदि की फोटो कॉपी भी जमा करवा रहे थे । राजस्व टीम ने जब इनसे पूछताछ की तो ये लोग कोई जबाब नहीं दे सके और न ही उनके पास कंपनी से संबंधित कोई दस्तावेज मिले । ग्रामीणों ने आशंका व्यक्त की है कि जिस तरह से यह ठग ग्रामीणों से आधार कार्ड ले रहे थे इसके बाद ठगी के तार किसी बड़े गिरोह  से जुड़े हो सकते हैं ।

ग्राम प्रधान छः जुला  श्रीमती शकुंतला देवी ने बताया कि गांव में  इंटरनेट न होने की वजह से वह कंपनी के बारे में पता नहीं कर सके और शहर जाकर इंटरनेट के माध्यम से कंपनी का पता करने में 2 दिन का समय लग गया इस बीच गांव के करीब 80 लोगों ने ₹230 जमा कराकर श्रमिक कार्ड बनवा लिए थे। फिलहाल पांचों ठग राजस्व पुलिस की हिरासत में है जिन्हें न्यायालय में पेश किया जाएगा।गौरतलब है कि जनपद में निर्माण कार्यों के दौरान हादसों के शिकार हो रहे मजदूरों पर मीडिया में खूब ख़बरें  उछली थी जिसके बाद उम्मीद की जा रही थी की सरकार श्रम विभाग को टाइट कर मजदूरों के श्रमिक कार्ड बनाने का काम तेजी से करेगी ताकि हादसों का शिकार हो रहे मजदूरों के परिवारों को कुछ न कुछ राहत मिले। सरकार तो जगी नहीं किंतु ठगों ने  इस मौके का फायदा उठाने से भी कोई गुरेज नहीं किया

Parvatjan Android App

ad

Video

Muslim Beaten for Celebrating Independence Day

Get Email: Subscribe Parvatjan

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: