ट्रेंडिंग

सरकार ने भी माना हार्क संस्था का लोहा। जमकर सराहा

मुख्यमंत्री ने हार्क संस्था द्वारा निर्मित ब्रान्ड माउन्टेन बीम का किया शुभारंभ
मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को विकासखण्ड कर्णप्रयाग के कालेश्वर में हिमालयन एक्शन रिसर्च सेन्टर(हार्क) एवं यू-काॅस्ट के संयुक्त तत्वाधान में हिमालय जंगली उत्पादों के मूल्य सवंर्धन से बने उच्च उत्पाद के ब्राॅन्ड ‘‘माउन्टेन बीम‘‘ का शुभांरभ किया। इस दौरान उन्होंने हार्क संस्थान के कोल्ड स्टोर, नये उत्पादों के रिसर्च यूनिट एवं खाद्य प्रसंस्करण यूनिट का अवलोकन भी किया।
मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि हार्क संस्था ने तीन उत्पादों से कार्य शुरू किया था और आज संस्था द्वारा 30 से अधिक उत्पाद तैयार किये जा रहे है। उन्होंने कहा कि परम्परागत कार्यो के साथ प्राकृतिक उत्पादों को उपयोगी बनाकर उनका मूल्य संवर्धन करना जरूरी है। किसानों की आय में वृद्वि करने के लिए स्थानीय उत्पादों को बढावा देने के साथ ही उसकी ब्रान्डिंग और प्रोसेसिंग पर ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों में व्यावसायिक सोच विकसित करना जरूरी है। राज्य सरकार द्वारा न्याय पंचायतों को ग्रोथ सेन्टर के रूप में विकसित करने की योजना बनायी जा रही है। इन ग्रोथ सेन्टरों में स्थानीय उत्पादों को बढावा दिया जायेगा तथा अधिक से अधिक महिला स्वयं सहायता समूहों को इससे जोडा जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश के समग्र विकास के लिए महिला सशक्तिकरण जरूरी है। उन्होंने हार्क संस्था में कार्य करने वाली सभी महिलाओं को उत्तम प्रोसेसिंग एवं ब्रान्डिंग हेतु आवश्यक प्रशिक्षण देनेे को कहा, जिससे उच्च गुणवत्ता के उत्पाद तैयार कर राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अच्छा मूल्य मिल सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए हमें अपने अधिकार एवं कर्मो के प्रति सजग रहना होगा।
मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि जैविक उत्पादों की मांग तेजी से बढ रही है। जैविक उत्पादों को तैयार कर हम अच्छी आजीविका अर्जित कर सकते है। उन्होंने कहा कि बाजार की डिमांड को देखते हुए किनवा एवं शहद की अच्छी तरह से प्रोसेसिंग और ब्रान्डिंग कर आजीविका में वृद्वि की जा सकती है। शहद के उत्पादन को बढाने के लिए पर्वतीय क्षेत्रों में सहकारी संस्थाऐं बनायी जायेंगी। उन्होंने हार्क संस्था द्वारा तैयार किये गये उत्पादों की सराहना करते हुए कहा कि जंगली फलों की सही ढंग से प्रोसेसिंग कर उत्तम उत्पाद तैयार किये जा रहे है, जिससे स्थानीय महिला स्वयं सहायता समूहों को स्वरोजगार के अवसर भी मिल रहे है। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया तथा हार्क संस्था द्वारा तैयार किये 14 उत्पादों की माॅउन्टेन वैन को हरी झण्डी दिखाकर देहरादून में मार्केटिंग के लिए रवाना किया।
 सहकारिता एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डाॅ. धन सिंह रावत ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा किसानों की आय दोगुनी करने के लिए मात्र दो प्रतिशत ब्याज पर लघु एवं सीमांत किसानों को एक लाख रुपये तक का ऋण दिया जा रहा है। जिसके तहत अभी तक 1.25 लाख से अधिक किसानों को लाभान्वित किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि प्रदेश मे 2800 महिला स्वयं सहायता समूह बनाये गये है। सरकार का लक्ष्य 5 हजार महिला स्वयं सहायता समूहों को तैयार स्वरोजगार के अवसर प्रदान करना है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जिले में मार्केटिंग सोसायटी भी बनायी जा रही है।
हार्क संस्था विगत 30 वर्षो से हिमालय क्षेत्र के सीमांत किसानों के साथ आजीविका से संबधित गतिविधियों में कार्य कर रही है, जिसमें बागवानी, कृषि एवं सहकारिता उत्पादों को तैयार किया जा रहा है। महिला सहकारिता का गठन हार्क ने 10 वर्ष पूर्व कालेश्वर में किया था, जिसमें वर्तमान में दो हजार महिलाएं जुडी है। हार्क संस्था द्वारा दो ब्रान्डों में 30 से अधिक उत्पाद तैयार किये जा रहे है।
 इस अवसर पर कर्णप्रयाग विधायक श्री सुरेन्द्र सिंह नेगी, पूर्व विधायक श्री अनसूया प्रसाद मैखुरी, महानिदेशक यू-काॅस्ट डा. राजेन्द्र डोभाल, हार्क संस्था के सचिव श्री महेन्द्र सिंह कुंवर, जिलाधिकारी चमोली श्री आशीष जोशी, पुलिस अधीक्षक सुश्री तृप्ति भट्ट आदि उपस्थित थे।

Parvatjan Android App

Get Email: Subscribe Parvatjan

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: