पहाड़ों की हकीकत

बिजली से झुलसी बच्ची के इलाज को जुटाए पांच लाख

12 लाख तक का आ रहा है खर्चा, तीन माह तक रहेगी अस्पताल में

जगदम्बा कोठारी/ रूद्रप्रयाग

कल हमने आपके लोकप्रिय पोर्टल पर्वतजन पर जखोली मे हाईटेंशन लाइन की चपेट मे आयी 12 वर्षीय कुमारी अनुष्का नेगी की खबर को सर्वप्रथम प्रकाशित किया था। जिसमे हमने बताया था कि 31 दिसंबर को सांय साडे़ चार बजे हाईटेंशन बिजली के तार की चपेट मे 12 वर्षीय छात्रा के आ जाने के बाद वह गंभीर रूप से झुलस गयी थी और देहरादून के निजी चिकित्सालय मे बच्ची का इलाज चल रहा है। बच्ची का दांहिना हाथ पूरी तरह से झुलस गया था और इन्फेंक्शन शरीर मे फैलने के बाद बच्ची का दांहिना हाथ चिकित्सकों द्वारा काटा जाना है।

इस इलाज मे लगभग दस से बारह लाख तक अनुमानित खर्च आना है। बच्ची अपने मामा के साथ जखोली मे रहती है व उसके माता-पिता की आर्थिक स्थिती खराब है। कल पर्वत जन ने अपनी खबर ‘बिजली विभाग की लापरवाही से छात्रा को गंवाना पड़ा हाथ’ मे अपने सम्मानित पाठकों से बच्ची के इलाज मे अंशदान की अपील की थी। जिसके बाद से रूद्रप्रयाग जनपद सहित गढ़वाल भर से लोग बच्ची के इलाज मे आर्थिक मदद को आगे आये।
कांग्रेस सेवा दल के जिला अध्यक्ष विशाल रावत ने बताया कि अभी तक विभिन्न सामाजिक संगठनों और लोंगो के द्वारा 5 लाख रूपये तक की आर्थिक सहायता जुटा ली गयी है, जिसे जल्द अनुष्का के परिजनों के खाते मे जमा कर दिया जायेगा।
बच्ची के मामा और माता-पिता ने पर्वतजन टीम का आभार व्यक्त करते हुए बताया कि वरिष्ठ चिकित्सकों की निगरानी मे फिलहाल बालिका का परीक्षण किया गया तो चिकित्सकों ने बच्ची के कंधे के पास कुछ नये सेल्स बनने की उम्मीद जतायी है। चिकित्सकों ने कहा कि पहले बच्ची का हाथ बाजू से काटा जाना था, लेकिन अब कंधे से आगे नये सेल्स बन रहे है। कहा कि उनकी कोशिश है कि बच्ची के बाजू का कुछ हिस्सा बच जाये, जिसके बाद उसमे कृत्रिम हाथ को जोड़ा जा सके। फिलहाल बच्ची तीन माह तक अस्तपताल मे ही रहेगी।

Get Email: Subscribe Parvatjan

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: