पहाड़ों की हकीकत

मानकों को ताक पर रखकर बिछाए जा रहे बिजली के खंभे, गिरे तो हो सकता है बड़ा हादसा

मोरी सुदूरवर्ती तालुका, पूर्ति,ओसला पांच  गांव के लिए बिछ रही विद्युत  लाईन। पीर पंजाल कंपनी कर रही काम। बर्फबारी व बारिश से कभी भी गिर सकते है खंबे

नीरज उत्तराखंडी

पुरोला। मोरी के सुदूरवर्ती बडासु पट्टी के पांच गांव में करोड़ों रूपये की लागत से विद्युतीकरण को बिछाई जा रही लाईन में मानकों को ताक पर रख तार खींचनें को गाडे जा रहे खंबे बरसात व बरफवारी के समय कभी भी क्षतिग्रस्त हो सकते है। हालात इस कदर है कि कार्यदायी संस्था खंबे गाडने के मानकों को  ताक पर रख गडढों में सीमेंट कंकरीट मसाले की जगह पत्थर भरे जा रहे हैं जो बरसात व बर्फवारी के समय   भविष्य में खंबे कमी भी गिर सकते हैं।
ज्ञातव्य है कि 2014-15 में केन्द्र सरकार बिजली से वंचित देश भर के 395 दूरदराज ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली पंहुचानें को  प0दीनदयाल उपाध्याय विधुतीकरण योजना के तहत  मोरी बडासु पट्टी के ओसला,गंगाड,ढाटमीर,पंवाणी व तालुका पांच गांव को भी बिजली पंहुचानें को सांकरी तालुका क्षेत्र में खंबें गाडनें व लाईन बिछानें का काम कर रही है। कार्यदायी संस्था पीर पंचाल एक माह पूर्व खंबें गाडनें का काम भी शुरु किया।
भूकंप, भूस्खलन,बर्फवारी व देवीय आपदा की दृष्टि से अतिसंवेदन शील पथरीली जमीन में गहरे गडे खोदकर मानकानुसार तीन फिट तक सीमेंट कंक्रीट में खंबों को गाडना है ताकि बर्फवारी,बरसात,भूस्खलन के समय लाईन  सुरक्षित रहे किंतु कार्यदायी संस्था ने मानक दरकिनार कर न तो मानकों के तहत गडे खोदें जा रहे न ही गडों में मानक से कंक्रीट डाला जा रहा है बल्कि गडढों पत्थर भरकर नाममात्र कंक्रीट डालकर खंबें खडे  किये  जा रहे हैं जो बरसात के समय कभी भी धराशायी हो सकते हैं।


गजब तो तब हो गया जब मोरी सुदूरवर्ती हरकीदून क्षेत्र के पांच गांव में  विद्युत लाईन बिछानें को कार्यदायी संस्था पीर पंचाल ने भारत सरकार से मिले करोड़ों के विद्युतीकरण का काम जम्बू कश्मीर के एक पेटी कांटेक्टर को खंबा गाडनें,लाईन बिछानें तक 2500 रूपये प्रति खंबें के हिसाब दिया गया। आलम यह है कि पीर पंचाल कंपनी के जिम्मेदार अधिकारी जेई व एई की देखरेख न होनें के चलते पेटी कांटेक्टर मानक दरकिनार कर कार्य निपटानें में लगा हैं।
मोरी के कांग्रेस व्लाक अध्यक्ष ओसला गांव निवासी राजपाल रावत  ग्रामीणों ने बताया कि बडासु के ओसला,गंगाड,ढाटमीर,पवाणी गाव सडक,विद्युत सुविधाओं से वंचित है,प0 दीनदयाल योजना के तहत 2 माह पूर्व क्षेत्र में विद्युतीकरण का कार्य शुरु हुआ है किंतु कार्यदायी पीर पंजाल  कंपनी के जिम्मेदार अधिकारी की कोई देखरेख न होने से जंमू कश्मीर पेटी कांटेक्टर  मानकों के अनुसार गढढों  में कंक्रीट भरनें व खंबों को गाडनें का काम सही नहीं किया जा रहा है जो बरसात व बर्फवारी में क्षतिग्रस्त हो जायेंगें जबकि मामले की जांच को एसडीएम,डीएम से भी शिकायत की गई है।


कार्यदाई संस्था पीर पंजाल के एजीएम सतीश  बहल ने बताया कि मोरी सांकरी से आगे तालुका,पूर्ति गाड़,ओसला,गंगाड, पंवाणी,ढाटमीर क्षेत्र तक कंपनी विधुतीकरण का कार्य कर रही है,स्थानीय युवाओं व कुछ बहारी मजदूरों को काम पर लगाया गया है,खंबों को गाडनें व गडों में कंक्रीट की जगह पत्थर भरने की स्थानीय लोगों की शिकायत पर एई- जेई को मौके पर रहकर निगरानी व जांच के आदेश दिए गए हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: