एक्सक्लूसिव

एक्सक्लूसिव: उत्तराखंड की बेटियों की मंडी लगाना चाहता है अमर उजाला !

राजीव थपलियाल

इसे पढ़िए, उत्तराखंड की बेटियों की मंडी लगाना चाहता है यह मीडिया हाउस। राज्य के एक नामी अखबार के पोर्टल पर इस स्टोरी के हैडिंग ने ही मुझे पहला झटका लगाया। अंदर इस गांव तक पहुंचने का भी रास्ता बताया गया है। लिखा गया है कि यहां की लड़कियां लोकल बोली के अलावा अन्य बोलियां भी जानती हैं। स्टोरी इस तरह से लिखी गई है कि जैसे इस गांव की बेटियां बाहर के लोगों के लिये कोई पर्यटन का सामान हों।


मीडिया में अपनी स्टोरी को सुर्खी बनाने के लिए कभी जौनसार की संस्कृति के लिए भी अनर्गल बातें लिखी जाती रही थी। अफसोस यह कि इसे लिखा भी लड़की ने ही है।


हमारे गांव को अपमानजनक तरीके से प्रस्तुत करने वालो पर धिक्कार है।
जब तक अतुल माहेश्वरी जी रहे, कभी भी इस मीडिया हाउस में ऐसे अपमानजक रिपोर्ट पढ़ने को नही मिली। राजुल माहेश्वरी जी आप क्यों ऐसा कर रहे हैं।(courtesy facebook wall)

10 Comments

Click here to post a comment

Leave a Reply, we will surely Get Back to You..........

  • Thapliyalji yeh galat baad hain, Tumne to Manju ki tipdi ka matlab puri tarah se badal diya, usne to sirf Valentine ka prachar kiya tha, VALENTINE samajhtein ho na. Per tumhne to uske lekh ke uper pahado ki ladkiyoun ke liye mandi jaise shabdon ka paryoug kiya yeh hakh tumhein kisne diya, Mandi jaise sabdh istemaal karke tumne apni ghatiya souch ka pramand diya hain tumhi jaise log aurton ke vikas mein sabse bade road block hain or aurton ko gulam samjhtein hain ladki ne likha to galat or tumhne jo sabhyata dikhayi uske to kya kehne, Aise shabdon ka paryog karne per Parvatjan partrika ko tum per action lena chahiyein taki aage se koi aise shabdon ka paryog na kar sakein

  • Thapliyalji aaj ke samaj mein Nyoya kaisa vaise likhe gaye niche lekh mein bhai ne sahi likha hain Mandi shabd ka istemaal or ladkiyoun ko saaman nahi likhna chahiyein …..Amar ujjala ne to sirf ek article likha hain per uske mayena aap ne badal diya kya aaj ke pahadi ladke ladkiya inter caste marriage nahi kar rahe thoda hat ke soucho galat lekh se pareshani mat badao pahado ki

  • Mandi ke saath saath ……….Paryatan ka saaman bhi likha gaya hain galat baat hain yeh thapliyalji kya likh rahe ho
    Article se jayada ganda to aap use bana rah ho kuch to soucho lekhne se pehle kewal TRP ke liye lekh mat likho

  • Mandi shabad ka istemal kis mansikta ko darshata hain valentine per iteraaz to theek lekin mandi per koi ankush nahi …..souch to sabki badalni chahiye tabhi sawachta ayegi

Calendar

September 2019
M T W T F S S
« Aug    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30  

Media of the day